Hindi News Portal
header-1

नरेंद्रनगर में आज से शुरू होगी जी 20 के ढांचागत विकास कार्यसमूह की तीसरी बैठक

खबरे सुने

नरेंद्रनगर : उत्तराखंड के नरेंद्रनगर में जी-20 की तीसरी इंफ्रास्ट्रक्चर वर्किंग ग्रुप की बैठक 26 से 28 जून तक आयोजित होगी। इस बैठक में जी-20 के सदस्य देश, आमंत्रित देश और अंतरराष्ट्रीय संगठनों के कुल 63 प्रतिनिधि ढांचागत विकास के एजेंडा पर चर्चा को आगे बढ़ाएंगे। रविवार को नरेंद्रनगर स्थित कार्यक्रम स्थल होटल वेस्टिन रिसार्ट एंड स्पा हिमालयाज में केंद्रीय वित्त मंत्रालय के संयुक्त सचिव सोलोमन अरोकियाराज ने कार्यक्रम की जानकारी साझा की। उन्होंने बताया कि ढांचागत विकास कार्य समूह की तीसरी बैठक में 2023 ढांचागत विकास की विभिन्न कार्य धाराओं की दिशा की ठोस प्रगति पर चर्चा की जाएगी।
इस बैठक में अन्य प्राथमिकताओं के साथ-साथ ‘कल के शहरों का वित्त पोषण, समावेशी, लचीला और टिकाऊ’ पर की जाने वाली चर्चा सर्वोच्च प्राथमिकता है। उन्होंने बताया कि ढांचागत विकास कार्य समूह की इस बैठक में दो सेमिनार आयोजित किए जाएंगे।

सोमवार को एशियन इंफ्रास्ट्रक्चर इंवेस्टमेंट बैंक के साथ साझेदारी में ‘टिकाऊ शहरों के रोडमैप पर उच्च स्तरीय सेमिनार’ का आयोजन किया जाएगा। तीन सत्रों में होने वाली चर्चा से जी- 20 के नीति निर्माताओं को तीव्र शहरीकरण और समावेशिता, प्रौद्योगिकी, इंफ्राटेक और डिजिटलीकरण की भूमिका की खोज के साथ-साथ जलवायु परिवर्तन से लेकर बुनियादी ढांचे के लचीलेपन तक की प्रमुख चुनौतियों को भी जानने का अवसर मिलेगा। प्रतिनिधि इंडोनेशिया में दुनिया के सबसे महत्वाकांक्षी शहरों में से एक नए शहर नुसंतारा के ढांचागत माडल को समझेंगे।

अंतरराष्ट्रीय व देश के विशेषज्ञ भी चर्चा में शामिल होकर अपने अनुभव और सुझाव साझा करेंगे। उन्होंने बताया कि 27 जून को नागरिक उड्डयन मंत्रालय की ओर से भारत को एमआरओ (मेंटीनेंस, रिपयेरिंग व ओवरहाल) हब बनाने पर सम्मेलन आयोजित किया जाएगा, जिसमें एमआरओ क्षेत्र में भारत की ओर से पेश किए जाने वाले अवसरों पर चर्चा की जाएगी। पत्रकार वार्ता में वित्त मंत्रालय भारत सरकार के निदेशक अमन गर्ग व निदेशक जितेंद्र राजे भी मौजूद रहे। जी-20 ढांचागत विकास कार्य समूह, बुनियादी ढांचे के निवेश के विभिन्न पहलुओं पर विचार विमर्श करता है। इसमें बुनियादी ढांचे को एक परिसंपत्ति वर्ग के रूप में विकसित करना, गुणवत्तापूर्ण बुनियादी ढांचे के निवेश को बढ़ावा देना और बुनियादी ढांचे के निवेश के लिए वित्तीय संसाधन जुटाने के लिए नवीन उपकरणों की पहचान करना भी शामिल है। ढांचागत विकास कार्य समूह के नतीजे जी 20 फाइनेंस ट्रेक प्राथमिकताओं में शामिल होते हैं और ढांचागत विकास को बढ़ावा देते हैं।

वित्त मंत्रालय के निदेशक अमन गर्ग ने बताया कि तीन दिवसीय बैठक के दौरान औपचारिक चर्चा के अलावा प्रतिनिधि विभिन्न आधिकारिक बैठकों और सांस्कृतिक कार्यक्रमों में हिस्सा लेंगे। प्रतिनिधियों को उत्तराखंड की समृद्ध संस्कृति के दर्शन भी कराए जाएंगे। सांस्कृतिक संध्या में उत्तराखंड के लोक कलाकार लोक कला, गायन और वाद्य की प्रस्तुतियां देंगे।
प्रतिनिधियों को उत्तराखंड की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत के साथ स्थानीय व्यंजनों का आनंद लेने का अवसर प्रदान करेंगे। रात्रि भोज व संवाद की भी मेजबानी भी उत्तराखंड की ओर से की जाएगी। साथ ही मेहमानों को ऋषिकेश के आध्यात्मिक वातावरण और प्राकृतिक छटा का अनुभव भी करवाया जाएगा। 28 जून की दोपहर प्रतिनिधियों को उत्तराखंड माडल विलेज ओणी गांव का भ्रमण कराया जाएगा। इसके पश्चात प्रतिनिधि ऋषिकेश के त्रिवेणी घाट की गंगा आरती में प्रतिभाग करेंगे।

नरेंद्रनगर के होटल वेस्टिन रिसार्ट एंड स्पा हिमालयाज में आयोजित जी 20 के ढांचागत विकास कार्य समूह की तीसरी बैठक में पहुंचने वाले प्रतिनिधि यहां योग और ध्यान शिविर में भी प्रतिभाग करेंगे। इसके लिए 26 जून को प्रात:काल में योग रिट्रीट कार्यक्रम आयोजित किया गया है। इसके अलावा 28 जून को जी-20 के प्रतिनिधि पुलिस ट्रेनिंग कालेज के ग्राउंड में एक मैत्री क्रिकेट मैच भी खेलेंगे। केंद्रीय वित्त मंत्रालय के संयुक्त सचिव सोलोमन अरोकियाराज ने बताया कि इस बैठक में जी-20 देशों में से 16 देशों के प्रतिनिधि यहां पहुंचे चुके हैं। जबकि चार देशों के प्रतिनिधि आनलाइन माध्यम से बैठक से जुड़ेंगे। बैठक में आठ आमंत्रित देशों के प्रतिनिधि तथा अन्य अंतरराष्ट्रीय संगठनों के प्रतिनिधि यहां पहुंचे हैं।

%d bloggers like this: