Hindi News Portal
header-1

मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल औऱ नेता हरक सिंह रावत की निजी बातचीत का वीडियो वायरल

खबरे सुने

देहरादून : नेता हरक सिंह रावत और कैबिनेट मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल के बीच निजी बातचीत का वीडियो सुर्खियां बटोर रहा है, बातचीत से इस वीडियो के सामने आने के बाद प्रदेश में सियासत शुरू हो गई है। सोशल मीडिया पर भी इस पर बहस तेज है। वहीं, मामले पर कैबिनेट मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल ने पलटवार करते हुए हरक सिंह रावत को विश्वासघाती बताया है। उत्तराखंड के दिग्गज नेता हरक सिंह रावत एक बार फिर चर्चाओं में हैं, हरक सिंह रावत ने ऋषिकेश विधायक और सरकार में शहरी विकास मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल से हुई निजी बातचीत को सार्वजनिक हुआ हैं। इस बातचीत में हरक सिंह रावत प्रेमचंद अग्रवाल के ऋषिकेश आईडीपीएल कॉलोनी के आवासों के ध्वस्तीकरण के आदेश को रोकने के लिए बातचीत कर रहे हैं।

बातचीत में हरक सिंह रावत कैबिनेट मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल को दांवपेंच सिखा रहे हैं। वहीं, बातचीत के इस ऑडियो वीडियो के सार्वजनिक होने के बाद इस मामले पर प्रेमचंद अग्रवाल की प्रतिक्रिया है। उन्होंने कहा हरक सिंह रावत ने सस्ती लोकप्रियता के लिए ये काम किया है 2022 विधानसभा चुनाव में भाजपा से कांग्रेस में घर वापसी करने वाले हरक सिंह रावत इन दिनों विपक्ष में हैं। वह सत्तापक्ष को घेरने के लिए लगातार मौका तलाश रहे हैं, इसी के चलते हरक सिंह रावत ने ऋषिकेश में शासन द्वारा चलाए जा रहे अतिक्रमण के खिलाफ अभियान को लेकर स्थानीय विधायक और सरकार में मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल के साथ मोबाइल पर हुई निजी बातचीत को सार्वजनिक कर दिया।

वहीं, सत्ता पक्ष ने इस तरह से निजी बातचीत को सार्वजनिक करने पर हरक सिंह रावत को घेरा है. प्रेमचंद अग्रवाल ने कहा लोगों के साथ विश्वासघात करना हरक सिंह रावत का पुराना तरीका है। वह लोगों की लोगों के गोपनीयता पर कुठाराघात करते हैं । दरअसल, ऋषिकेश में अतिक्रमण हटाने के खिलाफ चल रही कार्रवाई को लेकर विपक्ष के नेता हरक सिंह रावत ने कैबिनेट मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल से फोन पर बातचीत की। फोन पर बरसात के दिनों में अतिक्रमण हटाने की कार्यवाही ना करने के साथ-साथ स्थानीय लोगों को राहत देने की गुहार लगाई गई.जिसके बदले में सत्ता पक्ष की तरफ से कैबिनेट मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल ने कोर्ट के कुछ आदेशों का हवाला दिया।

साथ ही अपनी मजबूरी बताई  जिस पर हरक सिंह रावत ने अपने तमाम अनुभव गिनाते हुए कहा कि उनके द्वारा किस तरह से समाधान निकाला जाता था। कोर्ट के आदेशों के विपरीत भी उनके द्वारा जनता के हित के लिए समाधान निकाले जाते थे। अब हरक सिंह रावत और प्रेमचंद अग्रवाल की निजी बातचीत आम हो गई है। जिस पर हल्ला मचा हुआ है अब इस पूरे मामले पर कैबिनेट मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल ने अपनी सफाई दी है। उन्होंने कहा हरक सिंह रावत का इतिहास बताता है कि वह पहले से ही स्टिंगबाजों के माहौल में रहे हैं। उन्होंने कहा हरक सिंह रावत विश्वास के लायक नहीं हैं।

कैबिनेट मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल ने उनके पुराने प्रकरणों को गिनाया उन्होंने कहा लोगों के साथ विश्वासघात करना हरक सिंह रावत का पुराना तरीका है ।वह लोगों की लोगों के गोपनीयता पर कुठाराघात करते हैं। वे शुरू से ही धोखेबाज हैं। प्रेमचंद अग्रवाल ने कहा उनके द्वारा इस तरह से षड्यंत्र के तहत फोन करना और उसका वीडियो बनाना उसे वायरल करना बताता है कि हरक सिंह रावत को जनहित की नहीं बल्कि केवल अपने सुर्खियों में बने रहने की फिक्र करते हैं।

%d bloggers like this: